बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

साढे़ चार लाख नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग ने अधिसूचना किया जारी अधिकारियों का आया संयुक्त बयान।

साढे़ चार लाख नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग ने अधिसूचना किया जारी अधिकारियों का आया संयुक्त बयान।

छपरा : बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सह सदस्य बिहार विधान परिषद केदारनाथ पांडेय एवं प्रभारी महासचिव विनय मोहन ने प्रमंडलीय मीडिया प्रभारी प्रकाश कुमार सिंह के हवाले से संयुक्त बयान जारी कर कहा है कि शिक्षा विभाग ने विभाग की अधिसूचना संख्या ८७५ दिनांक -७/६/२०२१ के द्वारा बिहार नगर निकाय, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों तथा पंचायती राज संस्थानों के अधीन नियुक्त शिक्षकों के स्थानांतरण के संबंध में एक स्थानांतरण नियमावली अधिसूचित किया है।

राज्य के नियोजित शिक्षकों को जून माह के अनुपस्थिति विवरणी के साथ प्रमाण पत्र के बाद वेतन भुगतान।

सेवा शर्तनियामावली के आलोक में अधिसूचना इस नियमावली में कतिपय अस्पष्टता मौजूद है और किंचित कमियां दिखाई पड़ रही है। जैसे छठे चरण के नियोजन तक के लिए विज्ञापित पदों को स्थानांतरण से बाहर कर दिया गया है। साथ ही स्थानांतरित होने वाले महिला शिक्षिकाओ और दिव्यांग शिक्षकों की वरीयता निर्धारण के संबंध में भी कुछ भांति दिखाई पड़ रही है।

सरकार में सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को दिया अब इन नियोजित शिक्षकों को वेतन बंद का आदेश।

साथ ही दिव्यांग शिक्षकों को उन्हीं पद पर स्थानांतरित करने की व्यवस्था है जिस पद पर दिव्यांग कोटे में उनकी नियुक्ति हुई है। जबकि बहुत सारे दिव्यांग शिक्षक मेघा के आधार पर सामान्य पद पर भी नियुक्त हो । गए हैं उनको स्थानांतरण का लाभ नहीं मिल पाएगा। पारस्परिक रूप से स्थानांतरित होने वाले शिक्षकों को बहुत कम सुविधाएं मिल पाएगी। वे स्थानांतरण से वंचित रह जाएंगे जबकि शिक्षक संगठनों की मांग रही है की महिलाएं दिव्यांग और अन्य शिक्षकों को अपने परिवार के पास पहुंचने की सुविधाएं प्राप्त हो।

वैक्सीन लेकर जमा करें प्रमाणपत्र तभी मिलेगा जून माह का वेतन

ताकि कम वेतन पर परिवार के साथ रहने में और मानसिक तनाव से मुक्त होने में उन्हें सुविधा हो सके। बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ ने इन बिंदुओं पर और स्पष्टता के लिए और अनापत्ति प्रमाण पत्र की कठिनाई के परिहार के लिए माननीय शिक्षा मंत्री को पत्र लिखकर सुधार की मांग की है ताकि इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ शिक्षकों को मिल सके।

इस मांग का स्वागत सारण प्रमंडल के प्रमुख शिक्षक नेताओं में चुल्हन सिंह, शंकर यादव, महात्मा प्रसाद गुप्ता विद्यासागर विद्यार्थी रजनीकांत सिंह, कैलाश राय बागेन्द्रनाथ पाठक उमेशचंद्र पांडेय कुमार अर्नज प्रकाश कुमार सिंह मनोरंजन सिंह अरुण पांडेय शिवेंद्र कुमार आदि ने किया है।

4.5 लाख बच्चों को पांच महीने का मिड डे मील मिलेगा

कुछ महत्वपूर्ण बातें

• शिक्षा विभाग के आदेश के अनुसार वितरण में अनियमितता रोकने के लिए एक मुस्त चावल दिया जाएगा। यानी सौ डेढ़ सौ ग्राम चावल को - राउंड फिंगर में दिया जाएगा।

• पहली कक्षा से पांचवी कक्षा तक के बच्चों को फरवरी से मार्च तक के लिए 4 किलो 800 ग्राम चावल और अप्रैल से जून तक के लिए 5 किलो चावल मिलेगा।

• छठवीं से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को फरवरी-मार्च का 7 किलो 200 ग्राम और अप्रैल से जून तक का 7 किलो चावल मिलेगा।

सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को फरवरी माह से ही मिड डे मील का चावल बंद था। अच्छी खबर यह है कि अब एक साथ फरवरी से लेकर जून तक का चावल बच्चों को दिया जाएगा। इसको लेकर तैयारी पूरी हो गई है। अगले सप्ताह से चावल का वितरण किया जाएगा।

फरवरी से जून तक का चावल
मिड डे मील के नए नियम के तहत कक्षा एक से पांचवीं तक के छात्रों को प्रतिदिन 100 ग्राम और छठी से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को डेढ़ सौ ग्राम चावल दिया जाता है। यह चावल वर्किंग डे के हिसाब से दिया जाता है। शिक्षा विभाग ने फरवरी से मार्च तक कुल 48 दिन और अप्रैल से जून तक कुल 49 दिन को वर्किंग डे माना है। मिड डे मील डीपीओ अनिल कुमार ने बताया कि कि पहले फरवरी और मार्च का अनाज दिया जायेगा। फिर अप्रैल से जून तक का वितरण किया जाएगा। जिले के करीब 4 लाख 50 हजार बच्चों के लिए, चावल का आवंटन प्राप्त हो गया है। कुल 5 महीने के लिए करीब 45 हजार क्विटल चावल जिले को प्राप्त हुआ है।


Buy Amazon Product