बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

80 हजार सरकारी स्कूलों के लिए वित्त विभाग ने शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जारी कर दिया निर्देश पत्र हुआ जारी।

80 हजार सरकारी स्कूलों के लिए वित्त विभाग ने शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जारी कर दिया निर्देश पत्र हुआ जारी।

छात्र व विकास कोष की अव्यवहृत राशि का भी मांगा गया ब्योरा।
पटना । राज्य में प्राइमरी से लेकर प्लस टू स्कूलों के खातों में पड़ी राशि का हिसाब शिक्षा विभाग ने जिलों से मांगा है। हिसाब वित्त विभाग के निर्देश पर मांगा गया है। प्राइमरी से लेकर प्लस-टू तक के सरकारी स्कूलों की संख्या तकरीबन 80 हजार है। इन स्कूलों के विभिन्न खातों में विकास मद में करोड़ों रुपये की राशि पड़े रहने का अनुमान है। राज्य सरकार के वित्त विभाग ने शिक्षा विभाग से कहा है कि राज्य के सभी प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में विकास मद में राशि दी जाती है। प्रशासी विभाग के स्तर से प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में विकास मद की अव्यवहत राशि की नियमित समीक्षा किया जाना अपेक्षित है। प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के विकास मद में बैंक खातों में अवशेष राशि की समीक्षा कर प्रतिवेदन उपलब्ध कराने के लिए वित्त विभाग ने शिक्षा विभाग से कहा है।

यह भी पढ़ें - सरकारी स्कूल के शिक्षकों को 5 करोड़ से ऊपर का मिला खुशियों का सौगात जान ले कैसे करना है खर्चा

इसके मद्देनजर शिक्षा विभाग ने प्राइमरी से लेकर प्लस टू स्कूलों के खातों में पड़ी राशि का ब्योरा 20 जुलाई तक जिलों से मांगा है। इस बाबत शिक्षा विभाग के उप सचिव सह बजट पदाधिकारी द्वारा सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारियों तथा स्थापना, योजना व लेखा, एमडीएम एवं एसएसए वाले जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों को दिया गया है। इसके लिए उन्हें फॉर्मेट दिया गया है, जिसमें खातावार विकास मद की अवशेष राशि का ब्योरा मांगा गया है। फॅमेंट में विद्यालयवार छात्र कोष की राशि, विकास कोष की राशि, कम्पोजिट ग्रांट की राशि अद्यतन अन्य विकास मद की राशि खातों की विवरणी खातावार अव्यहत राशि का ब्योरा एवं राशि अव्यहत रहने के कारण का उल्लेख किया जाना है। इसके अनुपालन को अत्यावश्यक समझने का निर्देश जिला शिक्षा पदाधिकारियों तथा स्थापना, योजना व लेखा, एमडीएम एवं एसएसए के प्रभार वाले जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों को देते हुए शिक्षा विभाग के उप सचिव सह बजट पदाधिकारी ने कहा है कि राज्य के सभी प्रारंभिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों को विकास मद में दिये जाने वाले राशि के संबंध में विभागीय स्तर पर नियमित समीक्षा किया जाना अपेक्षित है।

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के जीन्स टी शर्ट पहनने पर शिक्षा विभाग ने लगाया रोक, राज्य के सरकारी स्कूलों में अब शिक्षिकाओं व शिक्षकों को इस ड्रेस कोड का करना होगा पालन नही होगी विभागीय करवाई

सीएम साइंस कॉलेज का मस्‍ चयन गर्व की बात : मंत्री
पटना । राज्य के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने शनिवार को कहा कि भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार कार्यालय और संस्कृति मंत्रालय की ओर से आयोजित हो रहा 'विज्ञान सर्वत्र पूज्यते' (विज्ञान सप्ताह ) बहुत ही सराहनीय प्रयास है । उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से इसके लिए देशभर के 75 कॉलेजों में मिथिला का गौरव सीएम साइंस कॉलेज का चयन करना मिथिलावासियों के साथ ही राज्य के लिए गर्व की बात है चौधरी ने कहा कि 22 से 28 फरवरी सप्ताह में शामिल होकर छात्र-छात्राएं विज्ञान के प्रति आकर्षित होंगे और आज़ादी के 75 वर्षों की वैज्ञानिक यात्रा को यादगार बनाने और भविष्य के दृष्टिकोण को प्रदर्शित करने का यह प्रयास मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत जैसे भारत सरकार की दूरदर्शी सोच को बल देगा। इस कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए शिक्षा मंत्री ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह और 'विज्ञान सर्वत्र पूज्यते' (विज्ञान सप्ताह ) के आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रो. दिलीप कुमार चौधरी टीम तक आयजित होने वाले विज्ञान को शुभकामनाएं दी है।


Buy Amazon Product