बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षकों के लिए खुशखबरी विभिन्न परियोजना के साथ वेतन मद के लिए 7700 करोड़ की मिली मंजूरी।

शिक्षकों के लिए खुशखबरी विभिन्न परियोजना के साथ वेतन मद के लिए 7700 करोड़ की मिली मंजूरी।

1. पहल. विभिन्न शैक्षणिक परियोजनाओं को लेकर टारगेट तय।

2. शैक्षणिक योजनाओं के लिए पांच माह बाद केंद्र से मिली 7700 करोड़ की राशि।

3. नर्सरी से कक्षा तीन तक की पढ़ाई के लिए बजट का किया जायेगा विशेष उपयोग।

केंद्र ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के शुरू होने के पांच माह बाद बिहार में केंद्रीय शिक्षा योजनाओं के संचालन के लिए 7700 करोड़ रुपये मंजूर किये हैं. केंद्र ने राशि देने की कवायद भी शुरू कर दी है. इधर, शिक्षा विभाग ने देरी से मिली इस धनराशि खर्च करने के लिए विशेष रणनीति तय की है. इस रणनीति के तहत नयी शिक्षा नीति के तहत नर्सरी से कक्षा तीन तक साक्षरता प्रसार पर फोकस किया जाना है. केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने भी इस पर खास फोकस कर रखा है. आधिकारिक जानकारी के मुताबिक अनिवार्य शिक्षा के अधिकार के तहत जो भी जिम्मेदारियां तय हैं, उसे हर हाल में पूरा करने की रणनीति भी प्राथमिकता में रखा है।

यह भी पढ़ें - पंचायत चुनाव के दौरान सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के लिए माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने जारी किया निर्देश।

केंद्र की तरफ से मंजूर बजट में शिक्षकों की सैलरी के अलावा इसी मदर पर सबसे अधिक के अलावा इसी पद पर सबसे अधिक 1455.65 करोड़ रुपये मंजूर किये हैं. शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने विभिन्न शैक्षणिक परियोजनाओं को पूरा करने के लिए टारगेट भी तय किये हैं, ताकि वित्तीय वर्ष के अंदर ही राशि को लक्ष्य करके राशि खर्च की जा सके. बुधवार को इस संदर्भ में विभाग के उच्चाधिकारियों के बीच अच्छा खासा विमर्श किया गया. जून 2021 में केंद्रीय अफसरों के साथ प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में बिहार के लिए 6632 करोड़ के बजट की अनुशंसा की गयी थी. हालांकि तब बिहार शिक्षा विभाग की तरफ से 13142 करोड़ का बजट प्रस्तावित किया गया था. कोरोना संकट के तहत प्रस्तावित राशि में कटौती की गयी थी. फिलहाल समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षकों की सैलरी के लिए 3308 करोड़ मंजूर किये गये हैं।

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के लेटलतीफी को रोकने के लिए विभाग ने  ईएएमएस ऐप लाया इसी ऐप के माध्यम से शिक्षकों की हाजिरी बनेंगे।

इसी तरह अन्य मदों में कटौती की गयी है, अपवाद रूप में खेलकूद और शारीरिक शिक्षा मद में कटौती नहीं की गयी है. उल्लेखनीय है कि पिछले तीन सालों से केंद्र प्रायोजित योजनाओं से जुड़े शैक्षणिक बजट में लगातार कमी की जा रही है।

केंद्र व राज्य की हिस्सेदारी अब 55:45 में।

विभागीय सूत्रों के मुताबिक एक दौर वह भी था कि बिहार का 13 से 14 हजार करोड़ रुपये का बजट मंजूर हुआ करता था. बजट में कमी आने से राज्य सरकार पर शिक्षा पर खर्च या उसकी हिस्सेदारी बढ़ जायेगी. जानकारों के मुताबिक केंद्र और राज्य की हिस्सेदारी अब 55:45 में होगी. इससे पहले केंद्र की हिस्सेदारी 60 फीसदी और राज्य की 40 फीसदी हुआ करती थी।


Buy Amazon Product