बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

सरकार ने 23.44 करोड़ कर्मचारियों को दी खुशखबरी EPFO खाते में बढी पैसा।

सरकार ने 23.44 करोड़ कर्मचारियों को दी खुशखबरी EPFO खाते में बढी पैसा।

नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी है. इपीएफओ ने 23.44 करोड़ नौकरीपेशाओं के खाते में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 8.50 फीसदी का ब्याज डाल दिया है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने ट्वीट के जरिए खुद ये जानकारी दी है. इपीएफओ ने बताया कि उसने 23.44 करोड़ के खाते में ब्याज का पैसा डाल दिया है. अगर आपने भी अब तक चेक न किया है तो इस आसान प्रक्रिया से अपना बैलेंस चेक कर सकते हैं. आपको बता दें कि पिछली बार वित्त वर्ष 2019-20 में केवाईसी में हुई गड़बड़ी के चलते कई सब्सक्राइबर्स को लंबा इंतजार करना पड़ा था. इपीएफओ ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए ब्याज दरों को बिना बदलाव के 8.5 प्रतिशत पर बरकरार रखा था जो कि पिछले 7 साल के निचले स्तर की ब्याज दर है. आप अपने पीएफ का पैसा चेक करने के लिए अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 011-22901406 पर मिस्ड कॉल देना होगा. इसके बाद इपीएफओ के मैसेज के जरिए आपको पीएफ की डिटेल मिल जाएगी।

यह भी पढ़ें - अगले महीने नियोजित शिक्षकों को मिलेगी सबसे बड़ी खुशखबरी पुराने व नियमित शिक्षकों की तरह मिलेगा अब नियोजित शिक्षकों को लाभ।

एमडीएम से खड़े किए हाथ दूसरी व्यवस्था करे सरकार।
बेगूसराय : एमडीएम योजना के नए नियमों ने शिक्षकों को परेशान कर दिया है। इस कारण प्रारंभिक स्कूलों के हेडमास्टरों ने इस योजना को संचालित करने में असमर्थता जताते हुए विभाग के उच्चाधिकारियों को पत्र प्रेषित कर एचएम और शिक्षकों को इससे करने की अपील की है।
बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघर्ष मोर्चा के राज्य संयोजक चंद्रकांत ने बताया कि अब इस योजना को चलाने के लिए एचएम को पीएफएमएस के तहत यूजर आईडी और पासवर्ड जनरेट करना होगा। वेंडरों को जोड़ना होगा। भुगतान के लिए सभी अभिश्रवयों पर विद्यालय शिक्षा समिति के सचिव से हस्ताक्षर कराकर उसे अपलोड करना होगा एवं मेकर के द्वारा एडवाइस जेनरेट करना होगा। सबसे बड़ी समस्या ये है कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे दुकान शायद ही कहीं हों जिनके पास जीएसटी नंबर हो, दुकान का बैंक एकाउंट हो और ईमेल आईडी न हुआ हो। दूसरी बड़ी समस्या ये होगी कि इस योजना को स्कूल से संचालित करने के लिए सभी स्कूलों में डाटा इंट्री ऑपरेटर कम्प्यूटर, प्रिंटर स्कैनर और फ़ास्ट इंटरनेट की व्यवस्था करनी होगी, जिसके लिए अतिरिक्त फंड कहां से आएगा, इसकी कोई जानकारी किसी के पास नहीं है।

यह भी पढ़ें - अगले महीने नियोजित शिक्षकों को मिलेगी सबसे बड़ी खुशखबरी पुराने व नियमित शिक्षकों की तरह मिलेगा अब नियोजित शिक्षकों को लाभ।

यह भी पढ़ें - अगले महीने नियोजित शिक्षकों को मिलेगी सबसे बड़ी खुशखबरी पुराने व नियमित शिक्षकों की तरह मिलेगा अब नियोजित शिक्षकों को लाभ।

तीसरी और अहम बात ये है कि शिक्षकों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए तैनात किया गया है। बहुत कम प्रधान शिक्षक ऐसे हैं जो कम्प्यूटर में दक्षता रखते हैं। ये गैर शैक्षणिक कार्य है, इस लिए मोर्चा ने इससे शिक्षकों को मुक्त करने के लिए हाईकोर्ट में भी पेटीशन दाखिल की थी।


Buy Amazon Product