बड़ी खबरें

 राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी सुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिलीसुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिली शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव और शिक्षा मंत्री का आया संयुक्त बयान जारी हुए निर्देश।

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव और शिक्षा मंत्री का आया संयुक्त बयान जारी हुए निर्देश।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रविधान पर अमल करने में जुटा शिक्षा विभाग, बच्चों के हित में मानी जाएगी पैरेंट्स की सलाह। शिक्षा की योजनाओं न को बनाते समय अब बच्चों के माता- की पिता की भी भागीदारी सुनिश्चित क होगी। बच्चों के हित में अभिभावकों । की सलाह मानी भी जाएगी, ताकि त्र विद्यालयी शिक्षा के गुणात्मक विकास न में शिक्षकों के साथ-साथ अभिभावकों न की भागीदारी सुनिश्चित की जा सके। र यह प्रविधान नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में है,

यह भी पढ़ें - राज्य के इन सभी सरकारी स्कूलों के लिए सरकार ने 25 - 25 हजार रुपये देने का किया ऐलान।

जिस पर अमल करने का निर्देश नी शिक्षा मंत्रालय ने राज्य सरकार को दिया है। शिक्षा विभाग ने अभी से क विद्यालयों में आयोजित शैक्षणिक गतिविधियों में अभिभावकों की भागीदारी सुनिश्चित करने को कहा है। एनुअल स्टेटस आफ एजुकेशन के रिपोर्ट में इसकी भी आवश्यकता नी जताई गई है कि शिक्षा की योजनाएं क बनाते समय बच्चों की शिक्षा में इ माता-पिता की भागीदारी को ध्यान में में रखना चाहिए। माता-पिता के साथ के विचार-विमर्श यह समझने के लिए ह आवश्यक है कि वे अपने बच्चों की ना कैसे मदद कर सकते हैं। 18 माह बंद त रहने के बाद विद्यालयों के खुलने और दो वर्षों में नामांकन में हुई बढ़ोतरी के  मद्देनजर रिपोर्ट में सरकारी विद्यालयों और शिक्षकों को तैयार करने की आवश्यकता जताई गई है।

यह भी पढ़ें - राज्य के 38 जिलो में इन सभी सरकारी स्कूलों के शिक्षकों पर कार्रवाई की लिस्ट हुई जारी।

91% बच्चों के पास किताबें। 
रिपोर्ट में अच्छी बात यह सामने आई है कि विद्यालयों में नामांकित 91.9 प्रतिशत बच्चों के पास वर्तमान कक्षा की पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध हैं। यह वर्तमान कक्षा की पाठ्य पुस्तक वाले बच्चों की संख्या पिछले साल (2020) की तुलना में सरकारी और निजी विद्यालयों में बढ़ी है। रिपोर्ट के मुताबिक सरकारी विद्यालयों में नामांकित 38 प्रतिशत बच्चों को घरों में पढ़ाई में मदद नहीं मिल पाती है। निजी विद्यालयों में नामांकित ऐसे बच्चे कम हैं, जिन्हें घरों में पढ़ाई में मदद नहीं मिल पा रही है। निजी विद्यालयों के ऐसे बच्चों का प्रतिशत 23.9 है।


Buy Amazon Product