बड़ी खबरें

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया निर्देश सरकारी स्कूल बनेंगे मॉडल स्कूल,सौंपी गई सूची।

शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया निर्देश सरकारी स्कूल बनेंगे मॉडल स्कूल,सौंपी गई सूची।

बीईओ को पांच व बीआरपी को चुनने थे तीन स्कूल

• मॉडल स्कूलों में समय पालन व साफ-सफाई पर होगा जोर

जिले के 165 स्कूलों को मॉडल बनाने की जिम्मेवारी बीईओ और बीआरपी को दी गई है। डीएम ने सभी बीईओ को पांच स्कूल और बी आरपी को तीन स्कूलों का चयन अपने स्तर से करने का निर्देश दिया था। शनिवार को बीईओ और बीआरपी ने चयनित स्कूल की सूची विभाग को सौंप दी है। इनमें कुल 165 स्कूलों का चयन किया गया है।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के लिए खुशखबरी इसी माह में 15% बढ़े हुए वेतन एवं एरियर के साथ 75,000 से 1,50,000 तक का होगा भुगतान

मॉडल स्कूल को लेकर 21 इंडिकेटर विभाग की ओर से तय किए हैं। इन इंडिकेटर का स्कूलों में पालन करवा कर इन्हें मॉडल स्कूल के रूप में बदलना है। अलग-अलग प्रखंडों में प्रखंड शिक्षा अधिकारियों ने अपने मनमुताबिक स्कूलों का चयन किया है। पहले चरण में इन 165 स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाने की कवायद की जा रही है। डीएम ने निर्देश दिया है कि यह सिर्फ कागज पर नहीं होगा, बल्कि इन स्कूलों में हर हफ्ते जिला स्तर के अधिकारियों का दौरा होगा और किस इंडिकेटर पर कितना काम हुआ, इसकी रिपोर्ट बनाई जाएगी। इसी के आधार पर इन्हें ग्रेड दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें - शिक्षा विभाग ने प्राथमिक मध्य माध्यमिक विद्यालय के लिए जारी किया दिशा निर्देश 20 बिंदुओं के अनुसार विद्यालयों का होगा संचालन।

बिहार शिक्षा परियोजना की ओर से तय किए गए हैं ये इंडिकेटर : डीईओ अब्दुस्सलाम अंसारी, डीपीओ सर्वशिक्षा अभियान अमरेंद्र पांडे, संभाग प्रभारी सुजीत कुमार ने बताया कि मॉडल स्कूल के लिए जो 21 इंडिकेटर तय किए गए हैं, उसके तहत विद्यालय समय पर खोलना और बंद होना पहले नंबर पर है।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के बरसो का इंतजार खत्म कैलकुलेटर हुआ तैयार 15% वेतन वृद्धि का होगा भुगतान।

इसके बाद हर एक बच्चा और शिक्षक स्कूल के समय में स्कूल में उपस्थित हो, समय से चेतना सत्र का आयोजन, हर चेतना सत्र में बच्चों द्वारा समाचार पत्र का वाचन, बिहार राज्य प्रार्थना गीत, अलग-अलग अभियान गीत, सभी बच्चे पोशाक में स्कूल आएं. हर शिक्षक को कम से कम 2 वर्ग आवंटित करना, प्रतिदिन शिक्षकों द्वारा पाठ टीका का निर्माण करना, छात्रों को शिक्षकों के द्वारा प्रतिदिन होमवर्क दिया जाना तथा अगले दिन उसका मूल्यांकन करना, शिक्षकों को बच्चों के शैक्षणिक स्तर की जानकारी और उसका संधारण, प्रधानाध्यापक प्रभारी प्रधानाध्यापक, प्रधान शिक्षक बच्चों की कम से कम दो कक्षा प्रतिदिन लें, विद्यार्थियों का अधिगम स्तर उम्र सापेक्ष और वर्ग सापेक्ष सुनिश्चित करना, हर एक बच्चा और हर एक शिक्षक सीखने-सिखाने की प्रक्रिया में तल्लीन रहे, सभी वर्ग कक्ष में शिक्षकों द्वारा ब्लैक बोर्ड का उपयोग करना, सभी बच्चों के पास अपनी कक्षा की किताबें उपलब्ध होना, सभी कक्षाओं में दैनिक शिक्षण तालिका होना, बाल संसद तथा मीना मंच का क्रियान्वयन, अंतिम घंटे में खेलकूद, कक्षा एक के लिए विशेष रूप से निर्धारित पूर्णकालिक शिक्षक, स्कूलों को उपलब्ध कराई गई कहानी की किताब, खेल सामग्री आदि का उपयोग, साफ-सुथरे बच्चे तथा साफ सुथरा स्कूल, स्कूल परिसर में बागवानी, पेयजल व्यवस्था और शौचालय, विद्यालय में साप्ताहिक कक्षा वारर शिक्षक अभिभावक की नियमित बैठक शामिल है।


Buy Amazon Product