बड़ी खबरें

 राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी सुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिलीसुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिली शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं

पटना हाईकोर्ट ने शिक्षकों के लिए दे दिया ऐतिहासिक फैसला अब उन्हें पूर्व की तरह प्रोन्नति और सभी सुविधा पाएगी।

पटना हाईकोर्ट ने शिक्षकों के लिए दे दिया ऐतिहासिक फैसला अब उन्हें पूर्व की तरह प्रोन्नति और सभी सुविधा पाएगी।

पटना। 38 साल तक नौकरी करने वाले संस्कृत शिक्षक को पटना हाईकोर्ट ने राहत देते हुए उनकी बर्खास्तगी को रद्द कर दिया। साथ ही सभी सुविधाओं के साथ शिक्षक को पद पर फिर से बहाल करने का आदेश दिया है। न्यायमूर्ति संजीव प्रकाश शर्मा की एकलपीठ ने सोमवार को संस्कृत शिक्षक चन्द्रभूषण प्रसाद की अर्जी पर सुनवाई के बाद यह आदेश दिया। शिक्षक के वकील संतोष कुमारने कोर्ट को बताया कि वर्ष 1981 में सहायक संस्कृत शिक्षक के पद पर नियुक्त किया गया था। बाद में उन्हें प्रोन्नति देकर प्रभारी प्रधानाध्यापक बनाया गया लेकिन 38 वर्षों तक नौकरी करने के बाद अचानक 22 फरवरी 2019 को बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड शिक्षकको नौकरी से बर्खास्त करते हुए किये गए भुगतान राशि की वसूली करने का आदेश दिया। सचिव के आदेश को कोर्ट में चुनौती दी गई। कोर्ट ने सचिव के आदेश को निरस्त करते हुए नौकरी में सभी सुविधाओं के बहाल करने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें - पटना हाईकोर्ट ने शिक्षकों के लिए दे दिया ऐतिहासिक फैसला अब उन्हें पूर्व की तरह प्रोन्नति और सभी सुविधा पाएगी।

कॉलेज नहीं होने से तोड़ दम तोड़ रही प्रतिभा उपेक्षा का शिकार
इमामगंज।

नक्सल प्रभावित इमामगंज प्रखण्ड में डिग्री कॉलेज नहीं होने से ग्रामीण क्षेत्र के बेटियों को उच्च शिक्षा पाने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिले के अतिनक्सल प्रभावित इमामगंज, म व बांकेबाजार प्रखण्ड में नये थाना व सीआरपीएफ कैम्प का स्थापना किये जाने से नक्सलियों की गतिविधि में कमी आयी है। लेकिन डिग्री कॉलेज नहीं रहने के कारण इस वर्ष इंटर में परचम लहराने वाली गांव की बेटियों को उच्च शिक्षा पर ग्रहण लगता नजर आ रहा है।
इमामगंज प्रखण्ड जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर बिहार-झारखण्ड राज्य की सीमा पर बसा है देश आजादी के 75 साल बीत जाने के बाद भी गांव में रहने वाले युवाओं को उच्च शिक्षा के लिए डिग्री कॉलेज नहीं है। स्थानीय प्रखण्ड मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूरी पर झारखण्ड राज्य के सीमा पर सलैया, विराज, मझौली नौडीहा पंचायत जंगल प्रभावित क्षेत्र में बसा है।

यह भी पढ़ें - पुरानी पेंशन योजना लागू करने के लिए प्रधानमंत्री को मिला पत्र, एनपीएस में 4.4% मिलेगी जान ले कैसे मिलेगा

गांव के बच्चों को बीए की पढ़ाई के लिए 50 किमी दूर जाना पड़ता है।
इस सम्बंध सलैया पंचायत के समाज सेवी बद्री नारायण सिंह बतातें हैं कि झारखण्ड राज्य के सीमा पर बसा अधिकांश गांव के बच्चे जिसमें खासकर लड़की बीए तक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाती हैं। जिसका मुख्य वजह है इमामगंज में डिग्री कॉलेज का नहीं होना। वे बतातें हैं कि गांव से 25 किलोमीटर इंटर कॉलेज और एक सौ किलोमीटर दूर डिग्री कॉलेज है। यही कारण रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र के मात्र 10 से 15 प्रतिशत ही बच्चे बीए तक का शिक्षा ले पाते हैं।


Buy Amazon Product