बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के कालबद्ध प्रोन्नति के लिए स्थापना ले नियोजन इकाई से मांगी शिक्षकों की सूचीनियोजित शिक्षकों के कालबद्ध प्रोन्नति के लिए स्थापना ले नियोजन इकाई से मांगी शिक्षकों की सूची राज्य के लाखों नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खबर आखिरकार मिल ही गया समय अत्यंत खुशी कि लहरराज्य के लाखों नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खबर आखिरकार मिल ही गया समय अत्यंत खुशी कि लहर सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी आठवें वेतन आयोग पर बड़ी खबर बढ़ेगी सैलरी अब होंगे 95 हजार वेतनसरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी आठवें वेतन आयोग पर बड़ी खबर बढ़ेगी सैलरी अब होंगे 95 हजार वेतन 80 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के लिए अपर मुख्य सचिव ने जारी किया निर्देश अब ऐसे कटेंगे वेतन  इसे जल्द कर ले80 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के लिए अपर मुख्य सचिव ने जारी किया निर्देश अब ऐसे कटेंगे वेतन इसे जल्द कर ले शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जारी किया निर्देश 15 नवंबर तक हर हाल में सरकारी स्कूल के शिक्षक कर ले अन्यथा विधि सम्मत होगी कार्यवाही पत्र हुआ जारीशिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जारी किया निर्देश 15 नवंबर तक हर हाल में सरकारी स्कूल के शिक्षक कर ले अन्यथा विधि सम्मत होगी कार्यवाही पत्र हुआ जारी राज्य के शिक्षा मंत्री का बड़ा ऐलान कल से सभी सरकारी स्कूल में हो गए लागू शिक्षक को मिला आरामराज्य के शिक्षा मंत्री का बड़ा ऐलान कल से सभी सरकारी स्कूल में हो गए लागू शिक्षक को मिला आराम

नियोजित शिक्षकों के तीन महीनों के बाद मिली सबसे बड़ी खुशखबरी उप सचिव अरशद फिरोज का आया निर्देश।

नियोजित शिक्षकों के तीन महीनों के बाद मिली सबसे बड़ी खुशखबरी उप सचिव अरशद फिरोज का आया निर्देश।

< dir="ltr">राज्य मद वाले शिक्षकों के वेतन के लिए आए 68 करोड इस तरह मिली है राशि।
मुजफ्फरपुर में प्रखंड नियोजित शिक्षकों की संख्या: 4721, वेतन मद में आया 66 करोड़ नौ लाख।
1)नगर पंचायत में जिले में शिक्षकों की संख्या 49, उनके वेतन मद में मिले 68 लाख 59 हजार 760।
2) नगर निगम के शिक्षकों की संख्या है 122, इनके वेतन के लिए मिली एक करोड़ 70 लाख की राशि।
मुजफ्फरपुर | प्रखंड से लेकर नगर निगम और नगर पंचायत के राज्य मद से वेतन पाने वाले शिक्षकों के भुगतान का रास्ता तीन महीने बाद खुल गया है। शिक्षा विभाग के उप सचिव अरशद फिरोज ने इस संबंध में निर्देश दिया है। राज्य मद से वेतन पाने वाले शिक्षकों का पिछले तीन महीने से आवंटन नहीं होने के कारण भुगतान बंद था।

यह भी पढ़ें - EPFO :सीधे उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री आवास से नियोजित शिक्षकों के 15% वेतन वृद्धि को लेकर उप मुख्यमंत्री का आया बयान

जिले में नगर निगम, नगर पंचायत और प्रखंड शिक्षकों की संख्या लगभग पांच हजार है। जिनका भुगतान राज्य मद से होता है। इनको वेतन का भुगतान •सीएफएमएस प्रणाली से किया जाएगा। इस बार भी इन्हें सरकार की ओर से घोषित 15 फीसदी बढ़ोतरी का लाभ नहीं मिल सकेगा। जिला के कोषागार से राशि की होगी निकासी: उप सचिव ने निर्देश दिया है जिला शिक्षा अधिकारी इस आवंटन से मात्र वैधानिक रूप से नियोजित और कार्यरत शिक्षकों के ही वेतन का भुगतान करेंगे। भुगतान की व्यक्तिगत जिम्मेदारी संबंधित जिला शिक्षा पदाधिकारी की होगी। जिला शिक्षा पदाधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि कोषागार से इतनी ही राशि की निकासी की जा रही है जितना तुरंत भुगतान होना आवश्यक है। अनावश्यक राशि बैंक खाते में नहीं. रखा जाएगा। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना की ओर से राशि की निकासी कर इस आवंटित राशि का व्यय किया जाएगा।

यह भी पढ़ें - EPFO :पीएफ खाता खाता धारकों की बल्ले-बल्ले दिवाली से पहले खाते में आएगी मोटी रकम,इतना मिलेगा ब्याज जरूर जान लें।

राज्य में निजी नर्सिंग स्कूलों की फीस की राशि निर्धारित।
पटना। स्वास्थ्य विभाग ने राज्य के निजी नर्सिंग प्रशिक्षण विद्यालयों एवं महाविद्यालयों के मान्यता प्राप्त एएनएम स्कूल, जीएनएम संस्थान तथा बीएससी नर्सिंग संस्थान के लिए फीस की राशि निर्धारित कर दी है। विभाग द्वारा गुरुवार को जारी निर्देश के अनुसार बीएससी नर्सिंग संस्थान सालाना ट्यूशन फीस के तौर पर 60 हजार रुपए से अधिक नहीं ले सकेंगे, साथ ही डेवलपमेंट फी 15 हजार रुपए सालाना निर्धारित की है। हॉस्टल, + ट्रांसपोर्ट, मेस चार्ज एवं अन्य चार्ज इसके अतिरिक्त होंगे। इसी तरह से जीएनएम संस्थानों के लिए 50 हजार रुपए सालाना ट्यूशन फीस तथा 10 हजार रुपए सालाना डेवलपमेंट फीस निर्धारित की गयी है। एएनएम संस्थानों के लिए 35 हजार रुपए सालाना ट्यूशन फीस व 5 हजार रुपए डेवलपमेंट फीस है। सभी संस्थानों के लिए हॉस्टल, ट्रांसपोर्ट, मेस व अन्य चार्ज अतिरिक्त हैं। जानकारी के अनुसार, राज्य के निजी एएनए स्कूल, जीएनएम संस्थान एवं बीएससी नर्सिंग संस्थान में 50 प्रतिशत सीटों पर राज्य कोटे से नामांकन के लिए शुल्क का निर्धारण का मामला विभाग के पास अबतक विचाराधीन था।


Buy Amazon Product